मैं उससे जी भर के चुदना चाहती थी-Mai Usee Ji bhar ke Chudna Chahti thi

मैं उससे जी भर के चुदना चाहती थी-Mai Usee Ji bhar k Chudna Chahti thi

मेरा नाम कविता है, मैं जयपुर राजस्थान से हूं. मैं, मेरे हस्बैंड और हमारा एक छोटा सा बेबी पिछले 3 सालों से यहां रह रहे हैं.”chudna ”

मेरी शादी को 5 साल हो गए हैं. मेरी शादी मेरे मम्मी पापा ने 12वीं के बाद ही कर दी थी इसलिए मेरी उम्र ज्यादा नहीं है, सिर्फ 25 साल है. मेरा फिगर देखकर सब मुझे घूरते हैं. यह बात मुझे हमेशा महसूस होती है पर अंदर अच्छा भी लगता है.
औरत अगर खूबसूरत हो और उसको कोई ना देखे … तो उसके खूबसूरत होने का क्या फायदा?

सब कुछ अच्छा चल रहा था. पर मैं थोड़ा बोर होने लगी थी रोज रोज एक सा जीवन बिताते हुए … सुबह सुबह ऑफिस जाते हुए हस्बैंड को खाना देना और फिर वही अपने छोटे बेबी के साथ पूरा दिन टाइम पास करना … यह भी सालों तक चला. बस मुझे कुछ अलग करना था इसलिए मैं हमेशा फोन में व्हाट्सएप ईमेल और अपनी सहेलियों के साथ बात करती रहती थी.
कुछ समय व्यतीत हो जाता था.

फिर एक दिन मैंने अपनी फ्रेंड से अंतर्वासना के बारे में सुना. मैंने इस साइट को पढ़ना शुरू किया. जैसे मैं इसे पढ़ती थी, मेरा चेहरा लाल हो जाता था इस पर ऐसी का कामुकता वाली कहानियां मेरे रोंगटे खड़े कर देती थी. ज्यादातर कहानियों के नीचे कमेंट भी होते थे, मैं लोगों के कमेंट पढ़ती थी, सच में बहुत मजा आता था, कुछ नया मिलता था. “chudna ”

अब मुझे थोड़ा अच्छा लगने लगा था.

एक दिन मैंने उन कमैंट्स पर एक व्यक्ति को कमैंट किया. उसका कमेंट मुझे सबसे अच्छा लगा था इसलिए मैंने उसे रिप्लाई किया. वह चैट तो मैं आप लोगों को नहीं बता सकती क्योंकि वह बहुत अजीब थी. पर हमारी धीरे धीरे बातें होने लगी, वह मुझसे काफी अच्छी और सेक्सी बातें करता था.

हसबैंड के ऑफिस जाने के बाद मुझे उसका साथ अच्छा लगता था. बेशक फोन पर ही सही पर मैं हमेशा उसके साथ टाइम व्यतीत करना चाहती थी. धीरे-धीरे हम आगे बढ़ने लगे. वह मुझसे कहता था- भाभी, आप कोई भी जरूरत हो मैं हमेशा आपके लिए तैयार हूं.
मुझे उसका यह कहना बहुत अच्छा लगता था. “chudna ”

हमारा ईमेल का सिलसिला सिर्फ कुछ ही दिनों में बहुत आगे तक चला गया. अगर मुझे कुछ भी खाने का ऑर्डर करना होता तो मैं उसे बता दिया करती और वह मेरे खाने का पेटीएम कर दिया करता. मानो मुझे ऐसे लगने लगा कि वह मेरी हर जरूरत पूरी कर सकता है.

उसका नाम मनोज है. धीरे धीरे मैं उसे मनु कहकर बुलाने लगी. हम कभी हंसते कभी सेक्सी सी बातें करते.
बस बहुत दिनों से यही चल रहा था.

ये भी सेक्स स्टोरी पढ़ें -  Payal Ki Gori Chikni Chut Ko Choda-पायल की गोरी चिकनी चुत को चोदा

एक दिन मुझे अचानक कुछ पैसों की जरूरत आ गई. ज्यादा नहीं सिर्फ ₹5000 की … मैंने उससे कहा.
उसने मुझसे कहा- भाभी मैं हमेशा आपके लिए रेडी हूं.
उसका भाभी कहना मुझे ऐसा लगता था मानो मेरा कोई छोटा देवर हो. क्योंकि घर में और कोई फैमिली नहीं थी इसलिए मुझे अच्छा लगता था.

उसने मुझसे कहा- मैं आपको अभी भेज देता हूं.
उसने मुझे ₹5000 पेमेंट ऐप से भेज दिए. मेरी समस्या सुलझ गयी।

मैं चाहती तो अपने पति से मांग सकती थी पर मुझे उनसे पैसे नहीं चाहिए थे क्योंकि ये पैसे मैं अपनी एक सखी को देने वाली थी और उनसे कितनी बार ले चुकी थी. इसलिए मैंने मनोज की हेल्प ली.

अपनी सहेली को मैंने मनोज के बारे में बताया तो उसने मुझसे कहा- आज के समय में ऐसे इंसान मिलते नहीं हैं; चाहो तो तुम उसके साथ आगे बढ़ सकती हो.
मैंने कहा- क्या मतलब?
मेरी फ्रेंड ने कहा- मतलब कुछ प्यार व्यार बस!

मैं मुस्कुराने लगी क्योंकि मनोज का मेरी हेल्प करना, मुझे हंसाना, मुझसे सेक्सी बातें करना … शायद कहीं ना कहीं मैं उसकी तरफ आकर्षित होने लगी थी. उसको बिना देखे मैं कहीं ना कहीं उसे प्यार करने लगी थी.

बातों ही बातों में ई-मेल पर मैंने उसकी कुछ पिक्स मंगाए. वह इतना सुंदर तो नहीं, पर ठीक था. और मुझे सुंदर चाहिए भी नहीं था, मुझे तो बस दिल का इंसान अच्छा चाहिए था जिस पर मैं भरोसा कर सकूं. “chudna ”

एक दिन मैंने उसका नंबर लिया क्योंकि मुझे उसकी आवाज सुननी थी. मेरे दिल में बहुत धक धक हो रही थी क्योंकि मैं उसे फोन करने वाली थी. पहली बार मैं उससे बात करने वाली थी.
मैंने डरते डरते फोन कर दिया. फिर हमारी बातें भी हुई … पर पहली बार मैं नर्वस थी तो कुछ ज्यादा बात नहीं कर पाई.

पर धीरे-धीरे सब कुछ सामान्य होने लगा. मैं उससे रोजाना फोन पर बात करने लगी, मुझे उसका साथ अच्छा लगने लगा.

फिर एक दिन उसने मुझसे कहा- भाभी, क्या आप मुझसे मिलने आ सकती हो? मुझे बस आपको एक बार देखना है.
क्योंकि मैं हमेशा उसको पिक्स वगैरह के लिए मना कर देती थी. ऐसा नहीं कि मुझे उस पर भरोसा ना था पर फिर भी कहीं ना कहीं डरती थी.

इसलिए मैंने उससे कहा- ठीक है, सामने देख लेना … पर पिक्स कभी नहीं सेंड करूंगी.
उसने कहा- ठीक है, मैं आपके लिए और अपने लिए एक होटल में रूम बुक कर लेता हूं .हम मिल सकते हैं क्या?

मैं थोड़ा सहम सी गई परंतु उसे मेरी हमेशा हेल्प की थी तो मैंने बस हां कर दी. क्योंकि कहीं ना कहीं जब मुझे उसकी जरूरत थी उसने मेरी हमेशा मदद की थी.

ये भी सेक्स स्टोरी पढ़ें -  Uski Chudai Se Anhu aa Gye-उसकी चुदाई से आँशु आ गये

आज जब कुछ कह रहा था तो मैं उसे ‘ना’ नहीं कर सकी.

उसने मुझे जगह और टाइम बताया मैं अपनी कामवाली को अपने बेबी को कुछ घंटे का ध्यान रखने के लिए कह कर चली गई.

मनोज होटल में में पहले से ही पहुँच गया था. वह मुझे होटल के नीचे लेने भी आया. हम होटल में रूम में गए. वहां जाकर उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और मुझसे कहने लगा- भाभी, आप बहुत खूबसूरत हो.
मैं बस उसकी आंखों में देखकर मुस्कुराने लगी।

फिर वह धीरे धीरे मेरे पास आकर बैठ गया. धीरे धीरे मुझे उसके दिल का अहसास होने लगा. वह मुझे छूना चाहता था, मुझे किस करना चाहता था और शायद उससे भी ज्यादा!
और शायद अंदर ही अंदर वह भी मुझे अच्छा लग रहा था. मैं चाहती थी कि वह मुझे छू ले. “chudna ”

फिर वह मेरी गर्दन पर हाथ फिराने लगा, मेरी खूबसूरती की तारीफ करते हुए उसने मेरे माथे पर किस किया.
मैंने उससे कहा- मनोज रुको!
पर उसने मेरे होठों पर उंगलियां रख दी.

फिर अचानक से उसने अपने होंठ मेरे होंठों से लगा दिए. मेरे अंदर एक अजीब सा अहसास हुआ और मैं अपने आप बेड पर पीछे की तरफ लेट गई. मेरी साड़ी मेरे पेट पर से हट गई.

वह सीधा मेरे पेट पर किस करने लगा. मैं भी एक अजीब से अहसास से उसका साथ दे रही थी. मैं अपने आप पर कंट्रोल नहीं कर पाई.

उसने मेरी साड़ी उतार दी, अब बस मैं उसके सामने ब्लाउज पेटीकोट में रह गई. मुझे किस करते करते ही उसने वे भी उतार दिए. मैं उसे मना नहीं कर पा रही थी, मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया था वह मेरी चूचियों को पागलों की तरह खाने लगा.
बस मैं उसके नीचे लेटी लेटी उसकी कामुकता वासना का अहसास कर रही थी. मैं सोच रही थी कि एक अनजान मुझे ईमेल पर मिला और आज मैं उसे चुदने वाली हूं.

कब उसने मुझे किस करते करते अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया, मुझे पता ही नहीं चला. मैं तो बस किस करते करते उसका साथ देने लगी थी. हम कब एक दूसरे में खो गए, पता ही नहीं चला.

वह मेरी खूबसूरती को खा जाना चाहता था. वह अपनी मन मर्जी से उचक उचक कर मुझे चोदने लगा. मुझे नहीं पता था कि हम इतने अच्छे दोस्त बनकर इस तरह मिलेंगे कि हम एक दूसरे में इतना खो जाएंगे.

वह मेरी गर्दन पर उसके दांतों के निशान और मैं उसकी कमर पर मेरे नाखूनों के निशाँ बना रही थी.
क्या नजारा रहा था वो!
वह मुझे जी भर कर चोद लेना चाहता था और मैं भी उससे जी भर कर चुदना चाहती थी.

ये भी सेक्स स्टोरी पढ़ें -  Bali Umar Ka Pyar ki Kahani-बाली उम्र का प्यार की कहानी

फिर उसने मुझे घोड़ी बनने के लिए कहा. मैं उसके लिए घोड़ी भी बन गई और उसने मुझे खूब पेला.
मुझे और ज्यादा आनंद आने लगा. अब मैं बस झड़ने ही वाली थी तो मैंने उससे कहा- और जोर से मनोज!

वह भी मेरी कामुकता भरी आवाज सुनकर जोर से धक्के मारने लगा और दूसरे क्षण झड़ गया.
और मैं भी साथ ही झड़ गयी.

उसने सारा वीर्य मेरी चूत में निकाल दिया. उसने मुझे जब तक घोड़ी बनाए रखा जब तक उसका लंड सामान्य स्थिति में नहीं आ गया.
मैं भी हाँफ रही थी और वह भी! “”chudna ”

मैंने उससे कहा- यह तुम्हारी इंसानियत का नतीजा है कि मैं आज तुम्हारे साथ इस हालत में हूँ. मैंने जब भी कहा, तुम हमेशा मेरी मदद के लिए आ गए. ना जान ना पहचान … ना भरोसा कर सकते थे. फिर भी तुमने मेरी मदद की. आज यही कारण है कि मैं भी तुम्हें जानती नहीं थी और तुम्हारे साथ एक अजीब सा रिश्ता बना लिया.
उसने मुझसे कहा- भाभी, मैं हमेशा से ऐसा ही हूं, ऐसा ही रहूंगा. कम से कम आप के लिए तो ऐसा ही रहूंगा।

मुझे हमेशा से पता था कि वह एक अच्छा इंसान है, सीधा सादा … सब पर भरोसा करने वाला. इसलिए मैंने शायद अपने आप को उसे सौंप दिया.
मेरे समर्पण का एक बड़ा कारण यह भी था कि मैं अपने हस्बैंड के साथ खुश नहीं थी. वह मुझे मेरी जवानी का मजा नहीं दे पा रहे थे. जो मुझे आज मनोज से मिला. “chudna ”

इंसान अगर अच्छा हो तो वह सब पा सकता है जिसका वह हकदार है. “chudna ”

मैं मनोज को किस करके जाने लगी तो मैंने उससे कहा- मैं तुम्हारे पास ज्यादा समय नहीं रुक सकती हूं. मुझे जाना होगा.
उसने मुझे फिर एक बार माथे पर किस किया और कहा- बाय भाभी।

उसका यही तो नटखट अंदाज मुझे पसंद था बार-बार मुझे चूमते रहना मेरे लिए हमेशा खड़े रहना.
औरत हमेशा दो ही चीज पर मर मिट जाती है एक कि उसकी मदद में हमेशा कोई उसके साथ रहे. और दूसरा जिस पर भरोसा कर सके!
मनोज के रूप में मुझे वह मिल गया था.

बहुत समय बीत गया था कि मनोज ने फिर मुझे एक दिन मिलने के लिए बुलाया.
मैं जानती थी कि अबकी बार जरूर खुल्लम खुला सेक्स होगा क्योंकि अबकी बार हम दोनों ही नर्वस नहीं होंगे.

आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी ?

Bhabhi Ne Condom Khade Lund Par Lagya-भाभी ने कंडोम खड़े लंड पर लगाया

Leave a Comment