Chacheri Bahan Ke Chutar Ka Ubhar – चचेरी बहन के चूतड़ का उभार

Chacheri Bahan Ke Chutar Ka Ubhar – चचेरी बहन के चूतड़ का उभार

दोस्तो, लड़कियों के लिए २१-२२ साल की अवस्था काफी कामुकता भरी होती है, और अगर उसकी नग्न शरीर का झलक मिल जाए तो फिर जी करता है कि अभी उसको चोद डालूं।  Bahan Ke Chutar

लेकिन लंड और चुत का संबंध भाई और बहन के बीच गलत है। कामना, मेरे छोटे चाचा की लड़की है और फिलहाल उन्नाव से कानपुर आई हुई है। वो देखने में तो साधारण ही है लेकिन उसका शरीर काफी सेक्सी है, नशीली आंखों के साथ मध्यम आकार के स्तन के जोड़े देख उसको चूसने का मन करता है।

उसके चूतड़ की उभार काफी मस्त है, बिल्कुल खरबूजे की दो फांकें जो कि उसके चलते वक्त आपस में टकराती है। उसको देख तो लंड टाईट होकर जांघिया फाड़ने लगता है।

कामना शाम को अपने पिताजी के संग घर आई, तो उसको देखकर भूल गया कि वो मेरी चचेरी बहन है, ३-४ साल के बाद कामना से मेरी भेंट हुई थी। वो आते ही उसने मम्मी और मेरा पैर को स्पर्श किया, तो मैने उसके सर पर हाथ फेरता हुआ आशीर्वाद दिया।

फिर चाचा के संग मै चाय पीने लगा, और चाचा बोले – देखो दीपक इसका दाखिला तुम्हे ही कराना है, मै सुबह की बस से उन्नाव चला जाऊंगा।

मै – अरे चाचा जी, आप निश्चिंत होकर जाइए मै उसके साथ ही रहूंगा।

फिर रात को घर के सारे सदस्य साथ में खाना खा रहे थे, तो मै कामना की चूची को तिरछी नजर से घुर रहा था। फिलहाल तो उसको नग्न देखना चाहता था, खैर सब लोग खाना खाकर सोने चले गए।

अगले दिन मेरे कालेज में छुट्टी थी और रविवार होने की वजह से आज कामना का दाखिला भी नहीं होने वाला था। तो मै आज उसको नग्न रूप में देखना चाहता था, लेकिन कैसे ये मैं समझ नहीं पा रहा था।  Bahan Ke Chutar

कामना चाचा जी के जाने के बाद बालकनी में अकेले बैठी हुई थी, तो मै उसके पास जाकर कुर्सी पर बैठा और उससे बात करने लग गया।

मैं – आज तो घर पर ही रहना है, क्यों?

कामना – कुछ काम तो है दीपक लेकिन चाची के साथ ही जाना होगा।

मै उसके रसीली होंठो को कनखिया को देख कर बोला – ठीक है तो चाची जी के साथ ही मार्केट हो आना।

फिर मै उठकर वहां से अपने कमरे कि और चला गया, तभी मेरे दिमाग में एक खयाल आया और मै अपने कमरे से बागान कि और चला गया। वहां मै मम्मी के कमरे के वाशरूम को चाभी बंद कर दिया, और फिर अपने रूम में आकर वाशरूम में घुसा और उसके एक भेंटिलेसन को पूरी तरह से खोल दिया।

मुझे पता था कि मम्मी के वाशरूम में जब पानी नहीं आएगा तो कामना मेरे वाशरूम में ही स्नान करेगी, और मै उसको खुली भेंटीलेसन से नग्न स्नान करते देख पाऊंगा।

फिर मै डायनिंग रूम आया तो मम्मी कामना को बोली – जाकर स्नान कर लो, और फिर नाश्ता कर लेना।

जब मम्मी ने मुझे बोला तो मै बोला – आधे घंटे का काम बागान में है, मैं उसके बाद स्नान करूंगा।

फिर कामना गेस्ट रूम की ओर गई और मेरे सामने से कमर बलखाते हुए मम्मी के रूम की ओर चली गई। उसके हाथ में कुछ कपड़े भी थे तो मै बागान की ओर चला गया, और वहां इस इंतजार में था कि कब मम्मी या कामना आकर वाशरूम की परेशानी मुझे बताए।

मैं वही बैठकर फूल की क्यारी से घांस साफ करने लगा, और कुछ पल बाद मम्मी मेरे पास आई तो मैं बोला – क्या हुआ मम्मी?

मम्मी – पता नहीं, मेरे वाशरूम में पानी नहीं आ रहा है।

मै – मैं अभी देखता हूं।

ये कहकर मै उस जगह पर गया जहां वाशरूम और किचन के नल की चाभी थी। और फिर मै मम्मी को बोला – मम्मी यहां तो सब ठीक है, जब तक प्लंबर नहीं आता आप मेरे वाशरूम से ही काम चला लो।

फिर मम्मी वहां से चली गई, खैर वाशरूम का भेंटिलेसन कुछ खास ऊंचाई पर नहीं था। इसलिए मै आराम से वाशरूम के अंदर झांक कर कामना के नग्न बदन को देख सकता था।

ये भी सेक्स स्टोरी पढ़ें -  Bhabhi Ki Gand Pelne Ka Maja- भाभी की गांड पेलने का मजा

कुछ पल बाद मै उठकर भेंटिलेसन की ओर गया तो कामना अपने कपड़े को खूंटी में टांग रही थी। अब मै इस इंतजार में था, कि कब कामना अपने स्कर्ट और टॉप्स को खोलकर अपनी सेक्सी बदन मुझे दिखाए।

तभी उसने अपने टॉप्स को गले से बाहर कर दिया, फिलहाल तो उसकी नंगी पीठ ही मुझे दिख रही थी और साथ में ब्लू रंग की ब्रा की पट्टी भी दिख रही थी। वो अब पलट गई तो उसका जिस्म मेरी आंखों के सामने था, और मेरी नजर उसके गोल गोल स्तन पर थी।

कामना के चिकने सपाट पेट से लेकर कमर तक को देखता हुआ मेरा लन्ड टाईट हो गया। अब वो बरमूडा के अंदर धीरे धीरे खड़ा हो चुका था, तो अब कामना ने अपना हाथ कमर पर लगा दिया। Bahan Ke Chutar

मेरी सांसे थम चुकी थी और उसके दुग्ध स्थल की उभार को देखता हुआ मन तड़पने लग गया। कामना मुश्किल से ५’३ फिट की होगी लेकिन उसके गोरे बदन देखता हुआ अब इंतजार खत्म सा हो गया था।

उसकी स्कर्ट का हुक खुल गया और उसकी स्कर्ट जैसे हि जमीन पर गिरा मेरी नजर सीधे उसकी जांघों के बीच गई, लेकिन उसकी चूत ब्लू रंग की पेंटी ने ढक रखी थी।

फिलहाल कामना के चिकने जांघों को देखते हुए मैंने अपना लन्ड बरमूडा के कोने से बाहर निकाल लिया। अब मैं अपने लंड को धीरे धीरे हिलाते हुए अपनी नजरें इधर उधर भी घुमा रहा था।

कामना का अर्ध नग्न जिस्म खूबसूरत लग रहा था, और वो अब पीछे पलट गई तो उसके नितम्ब की झलक मुझे मिली गयी। वो मानो खरबूजे की दो फांकें पैंटी में एक दरार बना चुकी थी।

अब कामना की हाथ उसकी ब्रा के हुक पर थे और उसने हुक खोलकर ब्रा को जमीन पर गिरा दिया। उसकी चूची का कुछ हिस्सा मुझे दिख रहा था और वो तभी झरना के नल को खोल स्नान करने लग गयी।

उसके बदन पर पानी की बूंदें मोती की तरह चमक रही थी, तो उसकी भिंगी पैंटी में गान्ड का उभार मस्त दिख रही थी। तभी कामना फिर से मुड़ी और उसकी चूची को देखते हुए मेरा लन्ड पूरा खड़ा हो चुका था।

कामना की बंद आंखें, लंबी नांक, गोल गोल स्तन और उसपर काले रंग की घूंडी देख तो मै जोर जोर से लंड को हिलाने लग गया। फिर कामना अपनी गीली पैंटी की डोरी खोलकर चुत को नंगा करने लग गयी।

उसकी चुत पर हल्के बाल थे तो फिलहाल दोनों पैर करीब होने की वजह से चुत का दीदार ठीक से नहीं हो पा रहा था। अब उसने झरना के नल को बंद करके अल्मीरे पर से साबुन लिया और अपने चूची से लेकर गर्दन तक रगड़ने लग गयी।

दीपक का लंड पूरी तरह से टाईट हो चुका था और मै उसके कमर तक के झाग्युक्त बदन को निहारता हुआ मस्त था। जैसे ही उसकी हाथ जांघ पर साबुन रगड़ने लगा, तो उसके दोनों पैर दो दिशा में हो गए।

अब उसकी चुत का दर्शन अच्छे से हुए, दोनों गुदाज फांक आपस में सटे हुए थे और उस पर छोटे छोटे बाल उग आए थे। वो तभी चुत पर साबुन लगाने लग गयी, और फिर झुककर अपनी जांघों और पैर पर साबुन लगाने लग गयी।

मेरा लन्ड फनफना रहा था तो कामना अब अपना चूतड़ मेरी ओर करके, अपनी पीठ और गान्ड पर साबुन लगाने लगी। उसके गोल नितम्ब और उसके छोटे से छिद्र को देखते हि मै लंड पर तेज झटका मारने लग गया।

जैसे ही कामना झरना को खोलकर बदन को रगड़ने लगी, तो मै लंड पर और तेज झटका देने लगा। दीपक कल्पना की दुनिया में कामना को चोद रहा था और मेरी आंखें बंद थी और जैसे ही लंड से वीर्य गिरना शुरू हुआ मेरी आंखें खुली।

तो मै कामना को अपनी ओर देखते हुए पाया, तो मैं तुरंत वहां से भाग खड़ा हुआ। अब मेरी चोरी पकड़ी गई तो डर से मेरा हाल खराब था कि कहीं कामना मम्मी से शिकायत ना कर दे।

मित्रो, २२ साल की नग्न लड़की का नंगा बदन झरना के नीचे देख कल्पना लोक में मैं खो चुका था, और कामना की मांस्ल चुत जिस पर हल्के बाल थे। उसे देख मेरे मुंह में पानी भर आया था, उसकी चिकनी केले के थंब समान जांघों को देख लंड टाईट हो गया।

ये भी सेक्स स्टोरी पढ़ें -  Maya Ki Chut ka Baja Bajaya -माया की चूत का बाज़ा बजाया

उसकी मध्यम आकार की चूची को देख कर मेरे लंड का वीर्यपात हो गया था। कामना मेरी चोरी पकड़ चुकी थी और मुझे डर था कि कहीं वो मेरी शिकायत मम्मी से ना कर दे।

उधर मम्मी के वाशरूम का पानी सप्लाई बंद था, तो अब एक और मौका मेरे पास था। मैं एक ४० साल की औरत को नंगा देख सकता था लेकिन वो मेरी मां है। तो क्या उनके नग्न बदन को देखना ये मेरे लिए सही होगा?

मै सोच में था और फिर स्नान और नाश्ता करके मैं बागान कि और गया, और मैंने पानी का चाभी खोल दिया। फिर मैं अपने रूम में आराम करता हुआ कामना कि जिस्म को याद कर रहा था, और फिर थकावट की वजह से मुझे नींद आ गई।

तो मै सो गया और फिर मेरी आंखें खुली लेकिन मै क्या कोई सपना देख रहा था, या फिर हकीकत में कोई मेरे बदन पर हाथ फेर रही थी। लेकिन गहरी निंद्रा से आंखें खुली तो मेरे छाती पर हाथ फेरते हुए मेरे कमर की ओर हाथ कामना कर रखी थी।

वो मुझसे नजर मिलाते हुए झेंप गई और भागने लगी। मैने कामना के हाथ को कसकर थामा और अपनी ओर खींच लिया, तो कामना मेरे पर गिर गई और मेरा हाथ उसके पीठ पर था।

तो उसके मुलायम स्तन मेरे छाती से चिपक रहे थे और दोनों की आंखें चार हो गई थी। मैने कामना के गाल को किस्स करके अपने प्यार का इजहार किया, तो वो मेरे से हटने कि जगह मेरे पर ठीक से सवार हो गई। Bahan Ke Chutar

और मेरी उम्मीद के विपरीत वो मेरे गाल को चूमने लग गयी। दीपक के बदन पर कामना का चिकना जिस्म था, तो वो बहन के चूतड़ को सहलाता हुआ उसके लंबे बाल को कसकर पकड कर उसके रसीले होंठो को चूसने लग गया।

अब आग दोनो के बदन में लगी हुई थी, तो कामना मेरे होंठ को चूमते हुए मुंह में भरकर चूसने लग गयी। कामना के गोल आकार के मानंसल चूतड़ को सहलाता हुआ, अब मेरा लंड थोड़ा टाईट होने लगा था।

उसके गुदाज चूची सीने को सुखद एहसास दे रहे थे, पल भर बाद कामना मुझसे अलग होकर बेड पर लेट गई। तो मै उठकर मम्मी के रूम की ओर गया।

वो गहरी निंद्रा में थी और दोपहर के खाने के वक़्त में सभी एक घंटा निश्चिंत होकर सोते थे। अब मुझे कोई फिक्र नही थी, और मै कामना के पास आया और उसकी बगल में लेटकर उसके बूब्स को दबाने लग गया।

अब वो सिसकने लगी और बोली – आह उह इतनी जोर से प्लीज़ मत दबाओ।

लेकिन मै कामना की चूची को दबाता हुआ उसकी स्कर्ट को कसकर पकड़ कर कमर की ओर करने लग गया। वो थोड़ा शरमा रही थी और विरोध भी कर रही थी, लेकिन मै उसके चिकने जांघों को नग्न रूप में सहलाता हुआ उसके चूची को मसलता रहा।

कुछ पल में मेरा हाथ उसके पैंटी पर था, तो मैने कामना की चूची को छोड़ उसके दोनों जांघों को हवा में कर दिया। फिर मैं उसकी पैंटी पर नाक रगड़ने लग गया।

लड़कियों को कामुक करने की कला से मैं वाकिफ था, और मैंने तभी कामना की पैंटी के हुक को खोल दिया। लेकिन कामना अपने चुत को छिपाने के लिए अपने दोनों जांघों को सटाने की कोशिश करने लगी।

लेकिन मेरा चेहरा उसके जांघें के बीच फंसा हुआ था, और तभी मैंने उसकी दोनों जांघें पकड़कर दो दिशा में कर दी। अब दीपक का मुंह उसकी चचेरी बहन कि चुत पर था और मै किस्स करता हुआ चुत की सुगंध पा रहा था।  Bahan Ke Chutar

कामना सिसकने लगी और बोली – उई मां इतनी गुदगुदी अंदर कभी नहीं हुई थी उह।

और तभी चुत को चूमकर उसके दरार में मैं जीभ फेरने लग गया। तो कामना कामुकता वश अपनी उंगली चुत पर लगाकर फैला दी और दीपक अपनी लंबी सी जीभ से चुत की गहराई को चाटने लग गया।

अब कामना सेक्सी आवाज में बोली – ओह उह उम् दीपक प्लीज़ जल्दी चूसो उह आह हहह।

ये भी सेक्स स्टोरी पढ़ें -  Dost ki Bahan Ki Gand Mar Li-दोस्त की बहन की गांड मार ली

मै कामना की चुत की दोनों फांक को मुंह में लेकर चूसने लग गया, मेरा लन्ड बरमूडा के भीतर पूरी तरह से टाईट हो चुका था। मै चुत को चूसता हुआ उसके नितम्ब पर हाथ फेर रहा था। पल भर की शांति के बाद कामना चिनख उठी और बोली।

कामना – उई मेरे अंदर का रस निकल गया आह।

अब मैं कामना की चुत का रस पीकर मै मदहोश हो गया। मैं भाग कर वाशरूम गया और मैंने पेशाब किया, और मैं लंड को धोकर वापस आया।

तो कामना स्कर्ट नीचे करके चुत को ढक चुकी थी, और मै उसके सीने के पास बैठकर उसके बूब्स पर हाथ फेरने लग गया। कामना की कामुकता जाग उठी और वो खुद ही अपने टॉप्स को गले तक करके अपने नग्न स्तन मुझे दिखाने लगी।

लेकिन काले रंग का ब्रा उसके गोरे गोरे स्तन को कैद करे हुई थी। मै झुककर उसके बूब्स के नग्न भाग को चूमने लग गया, और उसके दूसरे स्तन को मैं दबा रहा था।

तो वो आंखें बंद करके सिसक रही थी और बोली – उह इतनी खुजली पहले मुझे कभी नहीं हुई थी, उह अब चूसो बे साले।

मैने कामना के पीठ पर हाथ लगाकर ब्रा की डोरी को खोल दिया। अब उसके नग्न स्तन देख मुंह में पानी भर गया और मै एक चूची को मुंह में भरकर चूसता हुआ दूसरा स्तन दबाने लग गया।  Bahan Ke Chutar

कामना अपने दोनों पैर को बिस्तर पर रगड़ने लगी, तो मै उसकी चुत पर उंगली रगड़ने लग गया। वो मेरे कलाई को थाम कर मेरी एक उंगली को चुत में घुसाने लग गयी।

तो मैं भी उसकी चुत को कुरेदता हुआ, उसके दूध पीने लग गया। कामना मेरे बाल पर हाथ फेरते हुए मुझे छाती से लगाकर मुझे दूध पिलाने लग गयी।

मेरा लन्ड खंबा हो चुका था और में अब उसकी दूसरी चूची चूसता हुआ काम की दुनिया में खो गया। अब वो सिसकने लगी और बोली – दीपक अब प्लीज़ छोड़ दो ना मेरी चुत भी लहर रही है।

दीपक अपनी चचेरी बहन कि चुत से उंगली निकालकर चूची चूसना छोड़ा और अब सीधा बैठकर अपना बरमूडा उतारने लग गया।

अब मेरा ६-७ इंच लंबा लंड पूरी तरह से टाईट हो चुका था, और कामना उसे देख शरमाने लग गयी। लेकिन मै उसके मुंह के पास घुटने के बल बैठ कर उसके होठो पर लंड का सुपाड़ा रगड़ने लग गया। Bahan Ke Chutar

तो कामना सर को हटाकर उठी और फिर दीपक बेड पर लेटा हुआ था। अब कामना दीपक के लंड को पकड़कर उसका चमड़ा नीचे करके उसके सुपाड़ा को मुहन में भरकर चूसने लग गयी। उसके हरकत से लग रहा था कि वो खेली खाई लड़की है।

वो अपना मुंह खोलकर पूरा लंड अंदर लेकर चूसने लग गयी। अब मेरा हाल खराब होने लग गया, और फिर कामना मेरे लंड को मुंह में लिए सर का झटका तेजी से देते हुए मुखमैथुन करने लग गयी।

New Sex Story –Girlfriend ki Gand Mulayam Thi-गर्लफ्रेंड की गांड मुलायम थी

मै अब चिंखने लगा और बोला – उह आह और तेज साली चूस ना आज तुझे लौड़ा का रस भी पिलाता हूं।

कामना मेरे लंड को मुंह में लिए चूसती रही और मेरा लंड पूरी तरह से गरम हो चुका था, कुछ पल बाद वो मुंह से लंड को बाहर करके जीभ से उसको चाटने लग गयी।

कामना लंड को चाटते हुए अपनी झांट में उंगली फेरने लग गयी। फिर वो मुझे देख मुस्कुराई, उसका मुंह फिर से खुला और उसने लंड को पकड़ अंदर ले लिया।

तो मै उसके मुंह में नीचे से ही जोर का धक्का देकर उसका मुंह चोदने लग गया। २२ साल की देहाती लड़की काम कल्स में निपुण थी, लेकिन उसकी चुत को चाटते हुए समझ गया था कि उसकी सील अभी टूटी नहीं है।

खैर ३-४ मिनट तक मुखमैथुन किया और मेरा लन्ड उसके मुंह में ही वीर्यपात कर दिया। लेकिन उसने तुरंत ही लंड को मुंह से बाहर निकाल दिया।

फिर हम दोनों फ्रेश हुए और आराम करने लग गए।

Ye Sex Story Chacheri Bahan Ke Chutar Ka Ubhar kaisi lagi….

Leave a Comment